29 Mar 2018

बहुमुखी प्रतिभा से लोगों को दीवाना बना रही है ऐमन खॉ

Aiman Khan

चले हैं जिस सफ़र पर उसका कोई अंजाम तो होगा
        जो हौंसला दे सके ऐसा कोई जाम तो होगा,
        जो दिल में ठान ही ली है कामयाबी को अपना बनाने की
        तो कोई न कोई इंतजाम तो होगा।
    अपनी हिम्मत और लगन के बदौलत जानी मानी फैशन डिजाइनर और पटना की लेडी मनीष मल्होत्रा कही जाने वाली ऐमन खां आज फैशन की दुनिया में अपनी अलहदा पहचान बनाने में कामयाब हुयी है लेकिन इन कामयाबियों को पाने के लिये उन्हें अथक परिश्रम का सामना भी करना पड़ा है।
       बिहार की राजधानी पटना की रहने वाली ऐमन खॉ के पिता दिवंगत रिजवान खॉ और मां रूही खॉ घर की लाडली सबसे छोटी बेटी को डॉक्टर बनाने का सपना देखा करते। हालांकि बेटी ऐमन को डांस और फैशन के क्षेत्र में अधिक रूचि थी। वर्ष 2009 में ऐमन को राजधानी पटना में हुये डांडिया नाइट में डांस करने का अवसर मिला।
बॉलीवुड की जानी मानी कोरियोग्राफर सरोज खान को ऐमन का डांस बेहद पसंद आया और वह इसके लिये सम्मानित भी की गयी।
        ज़िंदगी कैसी है पहेली हाय कभी ये हसाए कभी ये रूलाये...
        वर्ष 2012 में ऐमन खॉ के जीवन में तूफान आ गया ।पिता की अकास्मात मौत ने ऐमन को को अंदर से तोड़ दिया। वह काफी समय तक डिप्रेशन में चली गयी। यदि इरादें मजबूत हों तो कोई भी लक्ष्य मुश्किल नहीं होता। जोश और जूनून के साथ हर मंजिल हासिल की जा सकती है। ऐमन एक बार फिर से नयी उमंग के साथ उठ खड़ी हुयी और पढ़ाई के साथ ही उन्होंने डांसिंग जारी रखा। वर्ष 2014 में ऐमन ने घर पर ही फैशन डिजाइनिंग वर्कशॉप की शुरूआत की।वर्ष 2016 में ऐमन ने डॉक्टरी की पढाई शुरू की लेकिन उनका मन इस ओर नही लगा। ऐमन ने तय किया कि वह फैशन की दुनिया में अपना नाम रौशन करेगी।
        जिंदगी में कुछ पाना हो तो खुद पर ऐतबार रखना
        सोच पक्की और क़दमों में रफ़्तार रखना
        कामयाबी मिल जाएगी एक दिन निश्चित ही तुम्हें
        बस खुद को आगे बढ़ने के लिए तैयार रखना।
वर्ष 2016 में ऐमन को राजधानी पटना में हुये फैशन एंड लाइफ स्टाइल एक्जिबशन में बतौर फैशन डिजाइनर शिरकत करने का अवसर मिला और उन्होंने अपने डिजाइन किये हुये परिधानो से लोगों का दिल जीत लिया। वर्ष 2017 ऐमन के करियर का अहम पड़ाव साबित हुआ। ऐमन को नयी दिल्ली में आयोजित पैंटालून वुमन शो में शिरकत करने का अवसर मिला और यहां भी उन्होंने अपने डिजाइन किये गये परिधानों के जरिये लोगों
को मंत्रमुग्ध कर दिया।
        ज़िन्दगी की असली उड़ान अभी बाकी है,
        ज़िन्दगी के कई इम्तेहान अभी बाकी है,
        अभी तो नापी है मुट्ठी भर ज़मीं हमने,
        अभी तो सारा आसमान बाकी है...
वर्ष 2017 में ऐमन खॉ को दिल्ली पब्लिक स्कूल में हुये डासिंग शो क्लस्टर ऑन स्टेज में बतौर जज बनने का अवसर मिला। ऐमन खॉ को उनकी प्रतिभा और फैशन के प्रति समझ और जागरूकता को देखते हुये मॉडलिंग हंट शो मिस बिहार पैसेफिक का जज बनाया गया। ऐमन खॉ बिहार के फैशन को वैश्विक मंच पर ले जाना चाहती है।ऐमन खॉ का कहना है कि बिहार प्रतिभा के मामले में किसी भी दूसरे राज्य से कम नहीं है। फिर चाहे वह फिल्‍म हो, फैशन हो या फिर कला का क्षेत्र हर जगह बिहार के लोगों ने अपनी सफलता के झंडे गाड़े हैं।राजधानी पटना किसी भी मेट्रो शहर से किसी भी मायने में कम नहीं है। हमारा युवा वर्ग फैशन इंडस्ट्री और ग्लैमर जगत से जितना प्रभावित है उतना ही आतुर वह उनमें जाने के लिए भी है। आधुनिक युग में युवा सिर्फ ढंकने और सुंदर बनने के लिए ही कपड़े नहीं पहनता बल्कि अब यह हमारे स्टेट्स और फैशन फंडे का सिंबल बन चुका है।
        ऐमन खॉ ने कहा वैश्विक फैशन जगत में भारत की हिस्सेदारी लगातार बढ़ रही है। इसके अलावा अच्छे से अच्छे ब्रांड के कपड़े पहनना सबसे अच्छा तथा लेटेस्ट डिजाइन पहनना और हमेशा स्टाइलिश बनाना आज के युवा का शौक है जिसे संभव करते हैं फैशन डिजाइनर। यही कारण है कि पिछले कुछ सालों में फैशन डिजाइनिंग का कोर्स सबसे ज्यादा प्रचलित हुआ है। मेरी ख्वाहिश है बिहार का फैशन वैश्विक मंच पर सराहा जाये।
        रख हौसला वो मन्ज़र भी आएगा,
        प्यासे के पास चल के समंदर भी आयेगा;
        थक कर ना बैठ ऐ मंज़िल के मुसाफिर,
        मंज़िल भी मिलेगी और मिलने का मजा भी आयेगा।
        ऐमन खॉ आज फैशन डिजाइनर के तौर पर अपनी अलग पहचान बना चुकी है लेकिन उनके सपने यूं ही नही पूरे हुये हैं यह उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम है। ऐमन ने बताया कि वह अपनी कामयाबी का पूरा श्रेय अपनी मां और परिवार के सभी सदस्यों को देती है जिन्होंने उन्हें हमेशा सपोर्ट किया है। ऐमन ने बताया कि उन्हें मॉडलिंग ,अभिनय , मेकओवर  का भी बेहद शौक है। ऐमन का सपना मिलान और लक्मे फैशन वीक में शिरकत करने का है।एमन अपनी मां को अपना रियल हीरो मानती है। ऐमन अपनी मां रूही खान के लिये गुनगुनाती है।
        बसे प्यारी, सबसे न्यारी,कितनी भोली भाली माँ.
       तपती दोपहरी में जैसे,शीतल छैया वाली माँ.
मुझको देख -देख मुस्काती, मेरे आँसु सह न पाती.मेरे सुख के बदले अपने,सुख की बलि चढ़ाती माँ.
इसकी 'ममता' की पावन,मीठी बोली है मन भावन,कांटो की बगिया में सुन्दर,फूलों को बिखराती माँ.
इसका आँचल निर्मल उज्जवल,जिसमे हैं, नभ - जल -थल.अपने शुभ आशिषों से, हम को सहलाती माँ.
माँ का मन न कभी दुखाना,हरदम इसको शीश झुकाना,इस धरती पर माता बनकर,ईश कृपा बरसाती माँ.
प्रेमभाव से मिलकर रहना,आदर सभी बड़ो का करना,सेवा, सिमरन, सत्संग वाली,सच्ची राह दिखाती माँ.
सबसे भोली सबसे प्यारी,सबसे न्यारी मेरी माँ.
Top Ten Bhojpuri Legend, Films, Actor, Actress, Singers, Albums, Songs, Video, Music Company and Production Company

Contact us on whats App No. -   91-9718810791
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: