15 Mar 2018

रैंप पर बच्चें बिखेरेंगे जलवा , फैशन शो 24 मार्च को

Faishon show on 14th March 18

पटना 15 मार्च राजधानी पटना के प्रतिष्टित स्कूल इंदिरापुरम में बच्चों के लिये आगामी 24 मार्च को फैशन शो का आयोजन किया जा रहा है।
        इंदिरापुरम गर्लस पब्लिक स्कूल की प्राधानाध्यपक आरती झा ने बताया कि बच्चों के लिये फैशन शो (बेबीज डे आउट ) का आयोजन 24 मार्च को स्कूल में किया जा रहा है।फैशन शो की थीम ए पोजेटिव मी रखी गयी है अर्थात मैं- सकारात्मक सोंच है। यह शो मुख्य तौर पर छोटे-छोटे बच्चों के मनोरंजन एवं प्रतिभा को ध्यान में रखकर किया जा रहा है। शो का उद्देश्य बच्चों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां वे एक दूसरे में सकारात्मक सोंच का आदान-प्रदान कर सकें जो आम तौर पर सभी बच्चों में विद्यमान होता है। हम जितना बच्चों की प्रतिभाओं को बल देंगे उतना ही उनका विकास और सोंच समृद्ध होगा। हर किसी की अलग-अलग पहचान एवं क्षमतायें होती है इसलिये किसी भी प्रतियोगिता में केवल जीतना ही सब कुछ नही होता बल्कि हार कर उभरना भी एक कला है अत: प्रत्येक व्यक्ति को हर परिस्थितियों , परिवेश एवं कठिनाइयों में अपनी सकारात्मक सोंच को बनाये रखना चाहिये। शो के दौरान मैजिक शो का भी आयोजन किया गया है। आज के परिवेश में शिक्षा जितनी जरूरी है उतना ही जरूरी बच्चों के लिए मनोरंजन भी जरूरी है। शिक्षा के साथ-साथ मनोरंजन का बड़ा महत्व है। डांस , अभिनय और मॉडलिंग को आज के बच्चे कैरियर के रूप में भी अपनाने लगे हैं। आज के युग में बच्चों को हर क्षेत्र में आगे आकर अपना नाम रोशन करना चाहिए।
        प्राधानाध्यापक ने बताया कि फैशन शो को तीन वर्गो में बांटा गया है। पहले वर्ग में डेढ़ वर्ष से तीन वर्ष के लड़के और लड़किया हिस्सा ले सकेंगी। दूसरे वर्ग में केवल बच्चियां शिरकत कर सकेंगी जिनकी आयु सीमा तीन वर्ष से पांच वर्ष निधारित की गयी है। वहीं तीसरे वर्ग में भी केवल बच्चियां हिस्सा ले सकेंगी जिसके लिये आयु सीमा पांच वर्ष से आठ वर्ष निर्धारित की गयी है।फैशन शो के नामांकन के लिये  बच्चों से कोई फीस नही ली जायेगी। हमारे स्कूल के बच्चों के साथ ही राजधानी पटना के अन्य स्कूल के बच्चे भी फैशन शो में हिस्सा ले सकते हैं।उन्होंने बताया कि फैशन शो के विजेताओं को पुरस्कार देने के साथ ही उनका फ्री में पोर्टफोलियो शूट भी किया जायेगा।
        फैशन शो की ब्रांड एम्बेसडर मिसेज एशिया यूनिवर्सल डा मनीषा रंजन ने बताया कि शिक्षा, खेल एवं मनोरंजन जीवन के अभिन्न अंग हैं। विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ अन्य गतिविधियों में भी हिस्सा लेना चाहिए।आज बच्चों पर पढ़ाई का काफी बोझ है. ऐसे में उनके मनोरंजन के लिए फैशन शो का आयोजन किये जाने से बच्चे काफी आनंद उठायेंगे।सालभर तो बच्चे पढ़ाई करते रहते हैं. कभी-कभी उनको खुशी एव आनंद का अनुभव भी कराना चाहिए।मनोरंजन से मनुष्य की मानसिक बौद्धिक शारीरिक थकान दूर होती है और वह नए उत्साह के साथ अपने काम में लगा सकता है। शारीरिक शिक्षा की विभिन्न क्रियाओं के आयोजन में मनोरंजन का भी पूरा ध्यान रखना चाहिए।
              मिसेज एशिया यूनिवर्सल ने बताया कि बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिये मनोरंजन और खेलकूद भी जरूरी है।खेलों में हार जीत का महत्व नहीं होता, बल्कि खेल एवं मैत्री भावना का प्रदर्शन मायना रखता है। जहाँ एक तरफ खेलों से शरीर और मस्तिष्क का विकास होता है वही दूसरी तरफ आपका बच्चा टीम वर्क एवं प्रतियोगी भावना सीखता है।बच्चे देश की संपति हैं। वे भारत के भावी नागरिक हैं। एक खुशहाल बच्चा अपने घर और देश को खुशहाल बनाएगा। किसी भी देश का भविष्य बच्चे के उचित लालन-पालन पर निर्भर करता है। इसके लिए सौहार्दपूर्ण माहौल तथा बच्चे के संपूर्ण विकास के लिए उचित अवसरों का होना आवश्यक है। स्कूल और कॉलेजों में यदि शिक्षा के साथ ही खेलकूद और मनोरंजन का माहौल बनाया जाना चाहिये।


Top Ten Bhojpuri Legend, Films, Actor, Actress, Singers, Albums, Songs, Video, Music Company and Production Company

Contact us on whats App No. -   91-9718810791
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: